गणेश जी को दूर्वा क्यों चढ़ाई जाती है | shree ganesh or doorva grass story

Share your love

Ganesh ji ko Durva grass Kyo chadhai jaati hai – Hindi Story :- दूर्वा गणेश जी को बहुत प्रिय है| यह एक तरह की घास होती है| दूर्वा को गणेश जी पर चढाने का एक नियम है| पहले 21 दूर्वा को एकत्रित कर उसकी एक गाँठ बनाई जाती है| इस तरह की कुल 21 गाँठ गणेश जी के मस्तक पर चढाई जाती हैं|

लेकिन आखिर क्यों दूर्वा घास गणेश जी पर चढ़ाई जाती है (why doorva grass is offered to lord ganesha reason information in hindi) इसके पीछे एक पोराणिक कथा है|

श्री गणेश और दूर्वा ग्रास पोराणिक कथा

Ganesh ji ko Durva grass Kyo chadhai jaati hai

एक बार की बात है एक अनलासुर नाम का देत्य था| इस देत्य के आतंक से धरती, पातळ और स्वर्ग में त्राहि त्राहि मची हुई थी अनलासुर देत्य ऋषि मुनियों और आम जन को जिन्दा नगल जाता था|

देत्य के अत्याचारों और आतंक से परेशान होकर सारे ऋषि गण और देवी देवता महादेव के पास गए| महादेव से प्रर्थ दी की अनलासुर के आतंक से इस जगत को मुक्ति दिलायें|

शंकर ने श्री गणेश को आदेश दिया देत्य को सबक सीखने के लिए| श्री गणेश अनलासुर के समक्ष गए और उसे जिन्दा निगल गए|

सम्पूर्ण गणेश चतुर्थी पूजा विधि एवं व्रत कथा

देत्य को निगलने के बाद उनके पेट में भयंकर जलन होने लगी| पेट की जलन समय के साथ बढ़ती ही जा रही थी| कई उपाय किये लेकिन कोई आराम नहीं आ रहा था|

तब ऋषि कश्यप ने उन्हें दूर्वा की 21 गांठे खाने की लिए दी| तब जाके उनके पेट की पीड़ा शांत हुई|

गणेश जी को 21 दूर्वा चढाते समय निचे लिखे मंत्र बोले| 2 दूर्वा को चढाने से पहले एक मंत्र बोलें| और आखरी दूर्वा चढाते समय सारे मंत्र एक साथ बोलें|

ॐ गणाधिपाय नमः ,ॐ उमापुत्राय नमः ,ॐ विघ्ननाशनाय नमः ,ॐ विनायकाय नमः
ॐ ईशपुत्राय नमः ,ॐ सर्वसिद्धिप्रदाय नमः ,ॐ एकदन्ताय नमः ,ॐ इभवक्त्राय नमः
ॐ मूषकवाहनाय नमः ,ॐ कुमारगुरवे नमः

ओषधि है दूर्वा|

इस कथा से हमें यह पता चलता है दूर्वा पेट के विकारों के लिए ओषधि है| इसका स्पर्श हमें शांति प्रदान करता है| मानसिक शांति के लिए भी लाभ प्रद है| यह विभिन बिमारियों में ओषधि का काम करती है|

That is why doorva grass is offered to lord ganesh. आशा करते हैं आपको ये जानकारी रोचक लगी होगी|

ये भी पढ़ें:-

गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है यह है राजनैतिक कारण

क्यों नहीं करने चाहिए भगवान गणेश की पीठ के दर्शन

1100 साल पुरानी 10वीं सदी की  अदभुत गणेश प्रतिमा

भगवान श्री गणेश के 8 अवतार

जानिये अपनी समस्याओं के हल ,श्री गणेश प्रश्नावली यंत्र के द्वारा

जानिये क्यों नहीं देखना चाहिए गणेश चतुर्थी को चाँद

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply