Category Chanakya Niti

Complete Chanakya Niti with Hindi and English Meaning | सम्पूर्ण चाणक्य नीति हिंदी और अंग्रेजी अर्थ सहित

चाणक्य, नाम सुनते ही एक महान राजनीतिज्ञ का चेहरा आपके सामने आ जाता है| प्राचीन भारत में इन्होने केवल अपने ज्ञान और राजनितिक दाव पेच से एक विशाल साम्राज्य के राजा को हराकर एक साधारण बालक का राज्यअभिषेक कराया|

किसी ने सच ही कहा है, बुद्धि बल के आगे शारीरिक बल कहीं ज्यादा ताकतबर होता है| चाणक्य ने अपने जीवन के अनुभव और वेदों का अध्ययन कर, सामाजिक और राजनितिक जीवन में सफलता पाने के कुछ सूत्र का संकलन किया|

उनके ही जीवन काल में उनके एक शिष्य ने इन सूत्रों का संकलन करके एक पुस्तक लिखी जिसे चाणक्य निति के नाम से जाना जाता है|

इस किताब में कुल 17-18 अध्याय हैं| इन सभी का हमने विस्तार से संकलन किया है| संकृत श्लोक के साथ साथ, दोहे और इनका अंग्रेजी और हिंदी में भी अनुवाद करने की हमने पूरी कोशिश की है|

Chanakya Niti in Hindi

सम्पूर्ण चाणक्य निति हिंदी अर्थ सहित

चाणक्य को कोटिल्य, और विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता है| इनका जन्म 371 BC में एक ब्राहमण परिवार में हुआ था| हुआ था|

बुद्धिस्ट संस्करण के अनुसार चाणक्य का जन्म तक्षशिला में और जैन धर्म के अनुसार दक्षिण भारत में इनका जन्म हुआ था|

इन्होने 2 किताबें अर्थशास्त्र और चाणक्य नीति का लेखन किया,

एक समय चाणक्य नन्द वंश के राजा धना नन्द के दरवार में गए| चाणक्य ज्ञानी विद्वान ब्राह्मण थे| लेकिन वेश भूषा से थोड़े कुरूप थे|

चाणक्य की कुरूपता का राजा धना नन्द ने उपहास उड़ाया और उन्हें अपने आसन से उठने के लिए बोला| इस व्यवहार से चाणक्य बहुत दुखी और अपमानित हुए|

चाणक्य ने धनानंद के राज्य को जड़ मूल नष्ट करने की प्रतिज्ञा ली और अपनी शिखा (चोटी) को तब तक न बाँधने का निर्णय ले लिया|

चाणक्य की मुलाकात चन्द्रगुप्त से हुई| चाणक्य ने चन्द्रगुप्त को नीतिशास्त्र और युद्ध शास्त्र में पारंगत किया| और अपने धन से एक सेना का निर्माण किया|

एक अन्य राजा के साथ मिलकर चन्द्रगुप्त चाणक्य ने धनानंद के राज्य पर भीषण आक्रमण किया और उसे मौत के घाट उतारकर उसके राज्य पर कब्ज़ा कर लिया

ज्यादा जानकारी के लिए आप यह आर्टिकल पढ़ लें

आचार्य चाणक्य का इतिहास और सम्पूर्ण जानकारी

आशा करते हैं, हमारी कोशिश आपको अवश्य ही कारगर प्रतीत होगी, यदि कोई त्रुटी नज़र आये तो आप हमें कमेंट में या फिर viralfactsindia@gmail.com पर मेल करके सूचित कर सकते हैं|