भारत की प्रथम महिला डॉक्टर कौन थी | Who was the First woman Doctor in India in Hindi

0
72
भारत की प्रथम महिला डॉक्टर कौन थी

भारत की प्रथम (पहली) महिला डॉक्टर कौन थी, कहाँ जन्मी थी, कब म्रत्यु हुई | Who was the First Woman Doctor in India Hindi

दोस्तो क्या आप जानना चाहते है कौन थी भारत की प्रथम महिला डॉक्टर (Who was the First Woman Doctor in India in Hindi). आज हम ऐसी  ही कुछ चर्चा करने वाले है|

दोस्तो भारत की प्रथम महिला डॉक्टर आनंदीबाई गोपालराव जोशी ( Anandibai Gopalrao Joshi) थी
इनका जन्म 31 मार्च 1865 को भारत के एक क्षेत्र कल्याण मुंबई में हुआ था|

इन्होने अमेरिका से मार्च 1886 में MD डॉक्टर की परीक्षा पास कर ली थी और डॉक्टर की उपाधि प्राप्त की

आइये आनंदी बाई जोशी के जीवन परिचय की संक्षिप्त में चर्चा करते हैं|

भारत की प्रथम महिला डॉक्टर कौन थी

Who was the First woman Doctor in India in Hindi

bharat ki pratham mahila docotr kaun thi
आनंदी बाई जोशी की अमेरिका की तस्वीर
Particular Detail
पूरा नाम आनंदीबाई गोपालराव जोशी
बचपन का नाम यमुना जोशी
पिता नहीं पता
माता नहीं पता
पति Gopal Rao Joshi
जन्म तिथि 31 मार्च 1865
जन्म स्थान कल्यान ठाणे महाराष्ट्र
शिक्षा MD डॉक्टर 1886
म्रत्यु 26 फरवरी 1887

 

भारत में प्रतिभा की कभी भी कमी नहीं रही| आज पूरे विश्व में भारतीय लोग प्रत्येक क्षेत्र में कामयाब हैं और कई देशों की आर्थिक
प्रगति में भागीदार हैं|

शायद आपको जानकार यकीन न हो आजादी से पहले एक भारतीय महिला ने केवल 19 साल की उम्र में डॉक्टर बन कर इतिहास
रच दिया था|

एक ऐसा समय जब एक महिला को पढने भी नहीं दिया जाता था, ऐसी विपरीत परिस्थिति में विदेश जाकर पढना और डॉक्टर बन
जाना काबिले तारीफ़ है|

1. आनंदीबाई जोशी का जन्म कल्यान ठाणे महाराष्ट्र में 31 मार्च 1865 को हुआ था| इनका बचपन का नाम युमुना बाई जोशी था|

2. इनके पिता जमींदार थे लेकिन किसी कारन वश परिवार की आर्थिक स्थिति ख़राब हो गई और माँ की जिद पर आनंदी की शादी 9 साल की उम्र में अपने से 20 साल बड़े युवक गोपालराव से कर दी गई|

3. 14 साल की उम्र में बच्चे को जन्म दिया लेकिन 10 दिन के बाद ही उसकी म्रत्यु हो गई इससे इन्हें गहरा सदमा लगा और मन ही मन डॉक्टर बनने की ठान ली|

4. इसाई मिशनरी की मदद से 1883 जून में अमेरका पहुंची और वुमन मेडिकल कॉलेज ऑफ़ पेनसिलवेनिया में प्रवेश ले लिया

5. सर्दी के मौसम और विपरीत खानपान की वजह से इन्हें तपेदिक (TB) हो गई लेकिन इन्होने फिर भी हार नहीं मानी और सफलता पूर्वक 1886 में मेडिकल MD की परीक्षा पास करके डॉक्टर बन गई|

6. 1886 में भारत वापस आई इनका जोरदार स्वागत हुआ कोल्हापुर के राजा ने इन्हें अल्बर्ट एडवर्ड हॉस्पिटल में फीमेल वार्ड का फिजिशियन इंचार्ज बना दिया

7. 26 फरबरी 1887 को 22 साल की उम्र में TB की वजह से उनकी म्रत्यु हो गई|

यह भी पढ़ें:-

ट्रेन बजाती हैं ये 15 तरह के हॉर्न, जानें- किस का क्या है मतलब

भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति कौन थी

भारत की प्रथम महिला राज्यपाल कौन थी | भारत की बुलबुल किसे कहा जाता है

भारत की सबसे पहली ट्रेन कहाँ और कब चली थी

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here