वीरता पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlokas on bravery with meaning in Hindi

वीरता पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlokas on bravery with meaning in Hindi. पराक्रम पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

दोस्तो, हमारे धर्म ग्रन्थ ज्ञान का भण्डार हैं| इनमें लिखे संस्कृत श्लोक में जीवन जीने की कला लिखी हुई है| यदि हम इन संस्कृत श्लोक का भावार्थ समझकर इन्हें अपने जीवन में ग्रहण करें| तो निश्चित ही हमारे जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आएगा|

आज हम आपके साथ वीरता पर कुछ संकृत श्कोक शेयर कर रहे हैं आशा करते हैं इनसे आपका ज्ञानवर्धन अवश्य होगा|

नाभिषेको न संस्कारः सिंहस्य क्रियते वने।
विक्रमार्जितसत्त्वस्य स्वयमेव मृगेंद्रता।।

Meaning In Hindi
शेर को जंगल का राजा नियुक्त करने के लिए न तो कोई राज्याभिषेक किया जाता है, न कोई संस्कार । अपने गुण और पराक्रम से वह खुद ही मृगेंद्रपद प्राप्त करता है। यानि शेर अपनी विशेषताओं और वीरता (‘पराक्रम’) से जंगल का राजा बन जाता है।

दाने तपसि शौर्ये च यस्य न प्रथितं वशः ।
विद्यायामर्थलाभे च मातुरूच्चार एव सः ।।

अर्थात- जिस पुरष की कीर्ति दान देने में, तपस्या में, वीरता में,विद्योपार्जन में नहीँ फैली वह पुरूष अपनी माता की केवल विष्ठा के समान होता है।

मोऽस्य दोषो न मन्तव्यः क्षमा हि पटमं बलम्।
क्षमा गुणों ह्याक्तानां शक्तानां भूषणं क्षमा ॥

भावार्थ: क्षमा तो वीटों का आभूषण होता है। क्षमाशीलता कमजोर व्यक्ति को भी बलवान बना देती है औट वीटों का तो यह भूषण ही है।

Share your love
Default image
Viral Facts India
Articles: 330

Leave a Reply

close