यज्ञोपवीत संस्कार ( जनेऊ )

Share your love

मनु महाराज का वचन है –

अर्थात पहला जन्म माता के पेट से होता है और दूसरा यज्ञोपवीत धारण करने से होता है | माता के गर्भ से जो जन्म होता है, उस पर जन्म-जन्मांतरों के संस्कार हावी रहते है | यज्ञोपवीत संस्कार द्वारा बुरे संस्कारों का शमन करके अच्छे संस्कारों को स्थायी बनाया जाता है | इसी को व्दिज अर्थात् दूर्सा जन्म कहते है | ब्राम्हण, क्षत्रिय और वैश्य यह तीनो इसीलिए व्दिजाति कहे जाते है | मनु महाराज के अनुसार यज्ञोपवीत-संस्कार हुए बिना व्दिज किसी कर्म का अधिकारी नहीं होता|

यज्ञोपवीत-संस्कार होने के बाद ही बालक को धार्मिक कार्य करने का अधिकार मिलता है | व्यक्ति को सर्वविध यज्ञ करने का अधिकार प्राप्त हो जाना ही यज्ञोपवीत है | यज्ञोपवीत पहनने का अर्थ है- नैतिकता एवं मानवता के पुण्य कर्तव्यो को अपने कंधो पर उत्तरदायित्व के रूप में अनुभव करना और परमात्मा को प्राप्त करना |

पदमपुराण कौशल कांड में लिखा है कि करोणों जन्मो के ज्ञान-अज्ञान में किये हुए पाप यज्ञोपवीत धारण करने हो जाते है |

पारस्करगृहसूत्र 2/2/7 में लिखा है, जिस प्रकार इंद्र को ब्रहस्पति ने यज्ञोपवीत दिया था, उसी तरह आयु, बल, बुद्धि और संपत्ति की वृद्धी के लिए यज्ञो पहनना चाहिए | यज्ञोपवीत धारण करने से शुद्ध चरित्र और कर्तव्यपालन की प्रेरणा मिलती है | इसके धारण करने से जीव-जन भी परम पद को पा लेते है | यानि मनुष्यत्व से देवत्व प्राप्त करने हेतु यज्ञोपवीत सशक्त साधन है |

ब्रह्मोपनिषद यज्ञोपवीत धारण ऐ का मंत्र इस प्रकार है-

अर्थात् यज्ञोपवीत परम पवित्र है, प्रजापति ईश्वर ने इसे सबके लिए सहज बनाया है | यह आयुवर्धक, स्फूर्तिदायक, बंधनों से छुड़ाने वाला एवं पवित्रता, बल और तेज को बढाता है |

जो व्दिजाति अपने बालको का यज्ञोपवीत-संस्कार नहीं करते, वे अपने पुरोहित के साथ निश्चित ही नरक में जाते है, ऐसा नारदसंहिता मे लिखा है | इसमें यह भी लिखा है कि यज्ञोपवीतरहित व्दिज के हाथ का दिया हुआ चरणामृत मदिरा के तुल्य और तुलसीपत्र कर्पट के सामान है | उसका हुआ पिंडदान उसके पिता मुख में काकविष्ठा के सामान है |

वेदांत रामायण में लिखा है कि जो व्दिजाति यज्ञोपवीत-संस्कार हुए बिना मंद बुद्धि से मंत्र और पूजा-पाठ आदि करते हैं, उनका जप निष्फल है और वह फल हानिप्रद होता है |

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply