क्या है बच्चो के कान-नाक को छेदने का महत्व…?

Share your love

कर्णवेध-संस्कार उपनयन के बाद ही कर देना चाहिए | इस संस्कार को 6 माह से लेकर 16वे माह तक अथवा 3, 5 आदि विषम वर्षो में या कुल की परंपरा के अनुसार उचित आयु में किया जाता है | इसे स्त्री-पुरुषों में पूर्ण स्त्रीत्व एवं पुरुषत्व की प्राप्ति के उद्देश्य से कराया जाता है | मान्यता यह भी है कि सूर्य की किरणें कानों के छिद्र से प्रवेश पाकर बालक-बालिका को तेज संपन्न बनाती है | बालिकाओ के आभूषण धारण हेतु तथा रोगों से बचाव हेतु यह संस्कार आधुनिक एक्युपंचर पद्धति के अनुरूप एक सशक्त माध्यम भी है |

हमारे शास्त्रों में कर्णवेध रहित पुरुष को श्राद्ध का अधिकारी नहीं माना गया है | ब्राह्मण और वैश्य का कर्णवेध चांदी की सुई से, शूद्र का लोहे की सुई से तथा क्षत्रिय और संपन्न पुरुषो का सोने की सुई से करने का विधान है |

कर्णवेध-संस्कार व्दिजो ( ब्राम्हण, क्षत्रिय और वैश्य ) का साही के कांटे से भी करने का विधान है | शुभ समय में, पवित्र स्थान पर बैठकर देवताओ का पूजन करने के पश्चात सूर्य के सम्मुख बालक या बालिका के कानो को मंत्र द्वारा अभिमंत्रित करना चाहिए-

इसके बाद बालक के दाहिने कान में पहले और बाए कान में बाद में सुई से छेद करें | उनमें कुंडल आदि पहनाये | बालिका के पहले बायें कान में, फिर दाहिने कान में छेद करके तथा बायें नाक में भी छेद करके आभूषण पहनाने का विधान है | मस्तिष्क के दोनों भागो को विद्धुत के प्रभावों से प्रभावशील बनाने के लिए नाक और कान में छिद्र करके सोना पहनना लाभकारी माना गया है | नाम में नथुनी पहनने से नासिका-संबंधी रोग नहीं होते और सर्दी-खासी में राहत मिलती है | कानो में सोने की बालिया या झुमके आदि पहनने से स्त्रियों में मासिकधर्म नियमित रहता है, इससे हिस्टीरिया रोग में भी लाभ मिलता है |

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply