सुबह जगते ही भूमिवंदना क्यों…?

प्रात:काल बिस्तर में उतरने से पहले यानी पृथ्वी पर पैर रखने से पूर्व पृथ्वीमाता का अभिवादन करना चाहिए, क्योकि हमारे पूर्वजो ने इसका विधान बनाकर इसे धार्मिक रूप इसीलिए दिया, ताकि हम धरतीमाता के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट कर सकें | वेदों ने पृथ्वी को मा कहकर वंदना की है | चूंकि हमारा शरीर भूमितत्वो से बना है और भूमि पर पैदा अन्न हमने खाया है, जल पिया है, औषधीयां पाई है | इसलिए हम इसके ऋणी है | उस पर पैर रखने की विवशता के लिए उससे क्षमा मंगाते हुए प्रार्थना करनी चाहिए-

समुद्रवसने देवि! पर्वतस्तनमण्डिते |

विष्णुपत्नि नमस्तुभ्यं पादस्पर्शं क्षमस्व मे ||

अर्थात् समुद्ररूपी वस्त्र धारण करने वाली अर्थात् चराचर प्राणी रूप अपनी संतानों के पोषण हेतु जीवनदायिनी नदियों के समान दुग्ध-धाराओ को जन्म देने वाली, पर्वतरूपी स्तनोवाली, हे विष्णुपत्नी भूमाता! अपने ऊपर पैर रखने के लिए मुझे क्षमा करें |

इस तरह पृथ्वी का वंदन करना अपनी मातृभूमि का सम्मान करना भी है |

Share your love
Default image
Viral Facts India
Articles: 340

Leave a Reply

close