What is Spleen in Hindi | function, Location & problems

Share your love

what is Spleen in Hindi | spleen function (work) location problems in Hindi | तिल्ली (प्लीहा) क्या है और इसके कार्य

Spleen शरीर का एक ऐसा अंग है जो सभी Vertebrates (रीड की हड्डी वाले जानवर) में पाया जाता है| यह अंग मानव शरीर में मुट्ठी के आकार का होता है|

सरल भाषा में कहें इस अंग का काम ब्लड (खून) को साफ़ करना होता है| लेकिन खून को साफ करने के अलावा भी इसके अन्य कार्य हैं आगे विस्तार से चर्चा करेंगे|

Anatomy (शारीरिक सरंचना):-

जैसा की हमने ऊपर बताया इसका आकर लगभग मानव मुट्ठी (fist) जैसा होता है, रंग बेंगनी| यह हमारे शरीर में diaphragm(मध्यपट) के बायें हिस्से के निचे स्थित होती है|

यह अंग करीब करीब मानव शरीर की 9वी, 10वीं और 11वीं पसली के निचे स्थित होता है|

इसकी सतह चिकनी और आकार उत्तल (Convex) होता है और इसका मुह मानव शरीर के diaphragm की तरफ रहता है|

what is spleen in hindi

जैसा की आप ऊपर छायाँ चित्र में देख सकते हैं| इसका पीछे का हिस्सा एक ridge (उभाड) के द्वारा दो भागों में विभाजित होता है|

आतंरिक पेट का हिस्सा (An Interior gastric portion) और पीछे का गुर्दे का हिस्सा ( Posterior renal
portion) इसके दो भाग हैं|

what is spleen in hindi

इसका gastric हिस्सा concave आकार का होता है, और stomach (पेट) की पीछे की दीवार को touch करता है||

इसका निचे का हिस्सा अग्न्याशय (pancreas) की पूंछ को touch करता है| इसका renal surface लगभग समतल आकार का, gastric surface से थोडा छोटा होता है|

what is spleen in hindi

इसका एक भाग बायें हाथ की किडनी और अधिवृक्क ग्रंथि (adrenal gland) के touch में रहता है|

Measurements(माप):-

स्वस्थ मानव शरीर में spleen की लम्बाई करीब 7 सेंटीमीटर से 14 सेंटीमीटर तक होती है| इसका वजन लगभग 150 ग्राम से 200 ग्राम तक होता है|

Blood Supply:-
spleen के बिलकुल बीच में एक दरार रहती है जिसे hilum कहते है| इससे Gastrosplenic ligament जुड़े रहते हैं|

इस दरार से splenic artery (यह ऑक्सीजन से युक्त खून spleen तक लेके आती है) और splenic vein (यह
कार्बनडाइऑक्साइड युक्त खून spleen से लेके जाती हैं|) जुडी रहती हैं|

इसके अन्दर lymphatic vessels और nerves (लसिका तंत्रिकायें) के लिए भी अलग स्थान होता है|

Spleen, Lymphetic System (लसिका तंत्र) का एक हिस्सा होता है| इसका मुख्य कार्य खून को साफ़ करना और कीटाणुओं को मारना होता है

Functions of Spleen in Hindi

what is spleen in hindi

Spleen (तिल्ली) में 2 एरिया होते हैं जिन्हें लाल पल्प (Red Pulp) और सफेद पल्प (white Pulp) कहा जाता है| आप ऊपर दिए गए चित्र से बेहतर समझ पायेंगे||

इन दोनों क्षत्रों के अलग कार्य होते हैं|

Red Pulp Function:-

Red Pulp लाल रक्त कणिकाओं को शुद्ध करने का कार्य करता हैं| जब spleen में से रक्त एक संकरे रास्ते से होकर निकलता है|

स्वस्थ रक्त कणिका आसानी से इस संकरे रास्ते को पार कर लेती हैं लेकिन अस्वस्थ रक्त कणिका यही रह जाती हैं|

spleen में उपस्थित macrophages इन अस्वस्थ रक्त कणिकाओं को तोड़ कर नष्ट कर देते हैं|

macrophages बड़ी white blood cells होती हैं जो अस्वस्थ Red Blood Cells को नष्ट करने में एक्सपर्ट होती हैं|

इन कणिकाओं में उपस्थित आयरन और अन्य महत्वपूर्ण तत्वों को स्टोर कर लेते हैं जो आगे नई red blood cells बनाने में काम आती हैं|

spleen आयरन को ferritin और bilirubin की फॉर्म में स्टोर करके इसे Bone Merrow को ट्रान्सफर कर देती हैं जहाँ हीमोग्लोबिन बनता हैं|

दूसरा इसका कार्य रक्त को स्टोर करना हैं| इस अंग में उपस्थित vessels जरुरत के अनुसार अपने आकर को बड़ा और छोटा कर सकती हैं|

किसी गहरी चोट के समय जब आपके शरीर को रक्त की जरूरत होती है| तो spleen स्टोर किया हुआ रक्त बॉडी को उपलव्ध कराती हैं|

White Pulp Functions:-

White Pulp बाहरी बेक्टेरिया को मारने का कार्य करता है| जब भी हमारे रक्त में कोई बाहरी घातक बेक्टेरिया प्रवेश करता हैं|

Spleen, लसिका तंत्र (Lymph Nodes) के साथ मिलकर एक सफेद रक्त कणिकाओं (lymphocytes) का निर्माण करती हैं|

यह lymphocytes एक स्पेशल एंटीबाडीज प्रोटीन का निर्माण करती हैं जो बेक्टेरिया और वायरस को नष्ट कर देती हैं|

स्वेत रक्त कणिका germs को trap करके संक्रमण (Infection) को भी फेलने से रोकती हैं|

Other Functions:-

spleen Opsonins, properdin, tuftsin जैसे तत्वों का भी निर्माण करता हैं

क्या आप तिल्ली (प्लीहा) के बिना जिन्दा रह सकते हैं:-

वेसे तो spleen एक महत्वपूर्ण अंग है लेकिन यदि यह अंग शरीर में न हो और किसी कारणवश इसे सर्जरी के द्वारा निकलना पड़े तो भी एक इंसान इसके बिना जिन्दा रह सकता हैं|

spleen की अनुपस्तिथि में इसके सारे कार्य लीवर और lymphetic प्रणाली के द्वारा किये जाते हैं| लेकिन इसके बिना आसानी से इन्फेक्शन का खतरा रहता हैं|

इसलिए डॉक्टर मरीज को विशेष एतियाह्त रखने के लिए बोलता हैं| मरीज को हो सकता हैं डेली एक एंटीबायोटिक
टेबलेट भी खानी पड़ सकती है|

Spleen problems and diseases in Hindi:-

तिल्ली से जुडी बीमारियाँ:-

Enlarged Spleen (splenomegaly):-

इस रोग में spleen का आकार बढ़ जाता है, इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे कैंसर, blood based leukemias,
thalassemia.

Rupture of Spleen:-

तिल्ली का फट जाना जैसे रोड एक्सीडेंट,

spleen Deflation:-

इस कंडीशन में spleen का आकार 40% तक कम हो जाता है, यह ज्यादा वजन उठाने वाली excercise और hypoxic गैस inhale करने से हो सकता हैं|

Decreased Function:-

इस कंडीशन को Asplenia कहते हैं, इस बीमारी में तिल्ली काम करना बंद कर देती है| यह किसी एक्सीडेंट और
sickle cell anaemia जैसी बिमारियों से हो सकता हैं|

इस बीमारी में रक्त में श्वेत रक्त कणिकाओं और प्लेटलेट्स का प्रवाह ज्यादा हो जाता है| जिससे इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है|

साधुवाद:-

दोस्तो हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी| आपको इसमें कोई त्रुटी नज़र आये तो कमेंट में जरूर अवगत करायें|

आपके पास कोई सुझाव हो तो आप हमें viralfactsindia@gmail.com पर भी मेल कर सकते हैं|

आपके अमूल्य सुझाव ही viralfactsindia.com की सफलता की कुंजी हैं|

यह भी पढें:-

एक सफेद धीमा जहर (क्या है अजीनोमोटो और इसके नुकसान)

 

 

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply