सबसे बड़ा दान क्या है | किस वस्तु का दान महत्वपूर्ण है

Share your love

सबसे बड़ा दान क्या है | सर्वश्रेष्ठ दान क्या है | किस वस्तु का दान महत्वपूर्ण है

दान देना मनुष्यजाति का सबसे बड़ा तथा पुनीत कर्तव्य है | इसे कर्तव्य समजकर दिया जाना चाहिए और उसके बदले में कुछ पाने की इच्छानहीं रहनी चाहिए |

अन्नदान महादान है, विद्यादान और बड़ा दान है | अन्न से क्षणित तृप्ति होती है, किन्तु विद्या से जीवनपर्यंत तृप्ति होती है |

ऋग्वेद में कहा गया है कि संसार का सबसे बड़ा दान ज्ञानदान है, क्योकि इसे चुरा नहीं सकते, न ही कोई इसे नष्ट करता है |

यह निरंतर बढता रहता है और लोगो को स्थायी सुख देता है | धर्मशास्त्रो में हर तिथि-पर्व पर स्नानादि के पश्चात् दाब का विशेष महत्व बताया गया है |

भाविश्यपुराण 151/18 में लिखा गया है कि दानो में तीन दान सबसे श्रेष्ठ है-

  1. गोदान,
  2. पृथ्वीदान और
  3. विध्यादान |

मनुस्मृति के अध्याय 4 के श्लोक 229 और 234 के मध्य दान के संबंद में महत्वपूर्ण बाते बताई गई है

भूखे को अन्नदान करने वाला सुखलाभ पाता है, तिलदान करने वाला अभिलाषित संतान और दीपदान करने वाला उत्तम नेत्र प्राप्त करता है |

भूमिदान देने वाला भूमि, स्वर्णदान देने वाला लम्बी आयु, चांदी दान करने वाला सुन्दर रूप पाता है | सभी दानो में वेद का दान सबसे बढकर है |

धन के दान के संबंद में स्कंद्पुराण में लिखा है कि- अन्यायपूर्वक अर्जित धन का दान करने से कोई पुण्य नहीं होता |

दानरूप कर्तव्य का पालन करते हुए भगवत्प्रीति को बनाए रखना भी आवश्यक है |

यक्ष ने युधिष्ठिर से प्रशन किया : ‘श्रेष्ठ दान क्या है?’ इस पर युधिष्ठिर ने उत्तर दिया, ‘जो सत्पात्र को दिया जाये | जो प्राप्त दान को श्रेष्ठ कार्य में लगा सके, उसी सत्पात्र को दिया गया दान श्रेष्ठ होता है |

वही पुण्यफल देने में समर्थ है |’ कर्ण ने अपनी त्वचा का, शिवि ने अपने मांस का, जीमूतवाहन ने अपने जीवन का तथा दधीचि ने अपनी अस्थियो का दान कर दिया था |

दानवीर कर्ण की दानशीलता जगविख्यात है ही | जब शक्तिशाली व्रत्रासुरकिसी भी तरह नहीं मारा जा सका, तो उसके त्रास से सभी देवता भयभीत हो गये |

ब्रह्माजी से ज्ञात हुआ की किसी तपस्वी की अस्थियों के वज्र से ही वृत्रासुर मारा जा सकता है | तपस्वियों में प्रसिध्द महर्षि दधीचि के पास इंद्र, विष्णु आदि देवता पहुचें |

उन्होंने परमार्थ के लिए, देवत्व की रक्षा हेतु अपना नश्वर शरीर सहर्ष प्रस्तुत कर दिया | उनकी अस्थियों के दान से वज्र बनाया गया और वृत्रासुर को उसी से मारा गया |

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply