मीठे पानी की मछलियों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में| Name of Fresh Water Fish in India in Hindi

मीठे पानी की मछलियों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में चित्र (फोटो) सहित | Name of Fresh water fish in India in Hindi and English with picture (Image) | मछली पालन के लिए मीठे पानी की मछलियों के नाम

वैसे तो मीठे पानी में बहुत सी मछलियाँ पाई जाती है| लेकिन हम यहाँ केवल कुछ मुख्य मछलियों के नाम की ही चर्चा करेंगे| इन मछलियों को मत्स्य पालन में भी बहुतायत में प्रयोग किया जाता है|

Fresh Water Fish Name in Hindi and English with Picture

मीठे पानी की मछलियों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में

आइये विस्तार से भारत की नदियों में पाई जाने वाली मीठे पानी की मुख्य मछलियों की चर्चा करते हैं|

मीठे पानी की मछलियों की सूची हमने इस आधार पर भी बनाई है की इन्हें ज्यादातर खाने के रूप में भी उपयोग किया जाता है और मछली पालन में भी यह मछलियाँ मुख्य रूप से प्रयोग में लाई जाती हैं|

सबसे पहले बात करते हैं इंडियन कार्प की जो बहुतायत में दक्षिण भारत की नदियों में पाई जाती है और मछली पालन में भी मुख्य रूप से इसे ही पाला जाता है|

1. Indian Carp (Indian major Carp)

देसी कार्प (इंडियन कार्प) सबसे ज्यादा पाई जानी वाली मीठे पानी की मछली है| इंडियन कार्प में कई वैरायटी आती है|

मुख्यतः तीन प्रकार की इंडियन कार्प बहुतायत में भारत की नदियों में पाई जाती है|

कतला (Catla), मृगल (Mrigal), रोहू (Labeo rohita, rohu, rui)

यह सभी मछलियाँ ज्यादातर दक्षिण भारत की नदियों में पाई जाती हैं| लेकिन अब पुरे भारत में मछली पालन के रूप में मुख्यतः इंडियन कार्प को ही प्रयोग किया जाता है|

इसके अलावा भी और भी मीठे पानी की मछलियाँ है| आइये एक एक करके सबके बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं|

A) कतला (Catla)

कतला मछली एक मीठे पानी की मछली है| यह मुख्यतः भारतीय महाद्वीप में भारत, नेपाल, मयन्मार, बांग्लादेश और पाकिस्तान में पाई जाती हैं| भारत के बंगाल राज्य में यह बहुत चाव से खाई जाती है|

आन्ध्रप्रदेश की गोदावरी नदी, कृष्णा, गंगा और कावेरी नदी में मुख्य रूप से यह मछली पाई जाती है|

भारत के विभिन्न क्षेत्रों में यह कई नाम से जानी जाती है|

कतला मछली के अन्य नाक

S.Nराज्यनाम
1.असम, बंगाल, बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेशकतला
2.उड़ीसाभाखुर
3.पंजाबथरला
4.आन्ध्रबीचा
5.मद्रासथोथा

B) रोहू (Labeo Rohita, Rohu, Rui)

रोहू एक हड्डी युक्त मछली होती है और शाकाहारी है इसलिए इसे मत्स्य पालन में बहुतायत से प्रयोग किया जाता है| भारत में उड़ीसा, बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम के अतिरिक्त थाईलैंड, पाकिस्तान और बांग्लादेश में भी पाई जाती है|

बंगाल में इस मछली से और इसके अण्डों से कई तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं|

पंजाब के लाहोरी व्यंजनों में इसे तल कर इसके पकोड़े बनाए जाते हैं| उड़ीसा के व्यंजन माचा भाजी में रोहू मछली का विशेष महत्त्व है|

C) मृगल (Mrigal)

इंडियन कार्प मछली में यह तीसरी महत्वपूर्ण मछली है जिसे बहुतायत से मत्स्य पालन में प्रयोग किया जाता है| यह भारत के अलग अलग क्षेत्रों में अलग अलग नाम से
जानी जाती है|

जैसे बिहार में नैनी, बंगाल असाम में म्रगल, उड़ीसा में मिरिकली और आंध्रप्रदेश में मेरिमीन, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इसे नरेन् कहते हैं|

2. हिलसा (Hilsa, ilish, Pulasa)

हिलसा मछली पश्चिम बंगाल, ओडिशा, त्रिपुरा, असाम और आन्ध्र प्रदेश में पाई जाती है| बंगाल की पद्मा नदी में यह मछली काफी मात्रा में मिलती है|

यह बहुत मंहगी मछली है, आंध्र प्रदेश में हिलसा, पुलासा मछली के नाम से जानी जाती है| पुलासा मछली आन्ध्र प्रदेश की गोदावरी नदी में पाई जाती है|

यह भी पढ़ें – पानी के जानवरों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में चित्र सहित

3. टोर टोर – महासीर (Tor Tor – Mahseer)

टोर टोर मछली महसीर और गोल्डन महसीर के नाम से जानी जाती है| यह एक गेम और फ़ूड फिश है| यह मछली वायनाद, काली नदी, सरदा नदी और हिमालयन नदी
में पाई जाती है|

4. कजुली (Kajuli – Ailia Coila)

कजली मछली को अंग्रेजी में एलिया कोइला (Ailia Coila) बोलते हैं| इसके अलावा यह गंगा नदी और इसकी सहायक नदियों में पायें जाने के कारण गंगेटिक एलिया (Gangetic ailia)
भी इसे बोला जाता है|

यह मछली बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान में पाई जाती है और इसकी लम्बाई करीब 30 सेंटीमीटर ( 12 इंच) तक हो सकती है|

5. तिलापिया (Tilapia – Cichilid Fish)

तिलापिया एक मीठे पानी की मछली है| लेकिन मूलतः यह भारत में नहीं पाई जाती है| यह मछली अफ़्रीकी देशों की नदियों और तालाबों में मुख्यतः मिलती है| जैसे की यह शाकाहारी है और तेजी से बड़ी हो जाती है इसलिए इसे मछली पालन के व्यवसाय में पाला जाता है|

इस तरह से यह पुरे विश्व में अब यह मछली खाने के लिहाज से स्वादिष्ट होने के कारण पुरे विश्व में उपलब्ध है|

भारतीय न होने के बाबजूद भी अब इसे यहाँ भी बहुतायत में चाव से खाया जाता है|

6. रानी (Rani – Pink Perch)

रानी मछली जिसे पिंक पर्च के नाम से भी जाना जाता है| इसका आकार छोटा होता है| ज्यादातर इस मछली तो भुन कर खाया जाता है| इस मछली का स्वाद शानदार होता है| इसमें DHA की मात्रा सभी मछलियों में सबसे ज्यादा होती है|

इसके अलावा इसमें प्रोटीन की मात्रा सबसे ज्यादा और फैट बहुत कम होता है|

7. कालबासु (Calbasu – Labeo Calbasu)

कालबासु मछली एक मीठे पानी की मछली है| इसे अंग्रेजी में ओरंगेफिन लाबियो (orangefin labeo) के नाम से जाना जाता है| यह फिश कार्प फॅमिली से ही ताल्लुक रखती है| यह दक्षिण एशिया, दक्षिण पूर्व एशिया में नदियों और तालाबों में खूब देखने को मिल जाती है|

अभी पुरे भारत में मछली पालन में इसका प्रयोग किया जाता है|

8. टेंगरा (Tengra – Mystus Tengara)

टेंगरा (Tengra) और तेंगना एक छोटे आकार की कैटफ़िश है| यह मछली ज्यादातर बिहार, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और बंगाल में पायी जाती है| इस मछली की बंगाली रेसिपी तंगरा माछेर झाल बहुत प्रसिद्द है|

9. करिमीन (Karimeen – Green Chromide)

करिमीन एक मीठे पानी की मछली है| यह सिचिलिद फिश (cichilid fish) फॅमिली से है| यह दक्षिण भारत और श्री लंका की नदियों के डेल्टा में बहुतायत में पाई जाती है| इस मछली को कई नामों से जाना जाता है|

यह एक हरे रंग की मछली है|

जैसे – पर्ल स्पॉट सिच्लिद (Pearlspot cichild), बेनदेड पर्लस्पॉट (banded pearlspot) और स्ट्राइपड क्रोमाइड (striped chromide)| केरल में इसे करिमीन के नाम से जाना जाता है|

गोवा में इसे कलुन्दर (Kalundar) और श्री लंका में इसे कोरालिया (Koraliya) के नाम से जाना जाता है|

10. मगुर (Magur – Walking Catfish)

मगुर एक कैटफ़िश है| यह जमीन पर भी कई घंटे जिन्दा रह सकती है| यह गीली मिटटी में आसानी से रह लेती है| यह मछली महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और असम में बहुतायत में पसंद की जाती है|

11. वल्लागो अटटू (Wallago Attu)

यह मछली हेलिकॉप्टर फिश के नाम से भी जानी जाती है| इसके अलवा इसे इंडियन सरेंग (Indian Sareng) भी बोला जाता है| यह ज्यादातर बड़ी नदियों और झीलों में पायी जाती है|

12. वाम (Vaam – River Eel)

वाम मछली को इंडियन मोत्त्लेद इल और इंडियन लॉन्ग फिन इल के नाम से भी जाना जाता है| यह मीठे पानी की नदियों की तलहटी में रहती है| यह ज्यादातर पुरे भारतीय उपमहाद्वीप में पाई जाती है|

13. पाबडा (Pabda Fish – Ompok)

पबडा मछली भी एक मीठे पानी की मछली है| यह बंगाल में बहुत प्रसिद्द है| यहाँ पाबडा माछेर सोर्शे झाल के नाम से इस मछली से एक प्रसिद्द व्यंजन बनाया जाता है|

14. ट्राउट (Trout – Rainbow Trout)

ट्राउट मछली हिमालयन क्षेत्र में पाई जाती है| यह भी एक मीठे पानी की मछली है| हिमालय के कई क्षेत्रों में इस फिश को पकड़ना वर्जित है|

कई इलाकों में आप फिशिंग कर सकते हैं लेकिन आपको मछली पकड़ने के बाद उसे दुबारा से पानी में छोड़ना पड़ेगा|

15. कोकिला और गार्फिश (Kokila Garfish – Xenentodon Cancila)

कोकिला मछली को फ्रेश वाटर गार्फिश के नाम से भी जाना जाता है| यह भारत के समुद्र के इलाके के पास की नदियों, झीलों और खारे और गंदे पानी में पाई जाती है|

इसकी लम्बी तीखी चोंच वाले मुंह के कारण इसे नीडल फिश के नाम से भी जाना जाता है|

16. चन्ना स्त्रीअता (Channa Striata – Snakehea)

चन्ना सत्रिअता और स्नेक हेड पश्चिम बंगाल और केरल में बहुत प्रसिद्द है| स्नेक हेड फिश करी केरल में एक प्रसिद्द व्यंजन है| अभी यह पुरे भारत में उपलब्ध है|

17. रीता मछली (Rita fish)

रीता भी एक मीठे पानी की मछली है| यह कुछ कुछ कैटफ़िश फॅमिली की फिश है| यह दक्षिण एशिया में ज्यादातर पाई जाती है| इसकी लम्बाई 150 सेंटीमीटर तक हो सकती है| यह पानी की तलहटी में रहना ज्यादा पसंद करती है|

इसका मुख्य भोजन छोटी मछलियाँ, कीड़े और मोल्लुस्क्स हैं|

बांग्लादेश, भारत, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में यह उपलब्ध है|

यह भी पढ़ें

आप ऊपर menu में जाकर KG class की केटेगरी में सभी तरह के नाम हिंदी और अंग्रेजी में पढ़ सकते हैं| हमने सभी तरह के जानवरों, पेड़ों, पक्षियों, फलों, सब्जियों के नाम हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओँ में सही चित्र के साथ समझाएं|

बच्चों को अंग्रेजी सिखाने के लिए यह एक बेहतर ज्ञान वर्धक श्रोत है|

Default image
Viral Facts India
Articles: 330

One comment

Leave a Reply

close