Independence day and Republic day mein kya antar hai

Share your love

क्या आप सर्च कर रहे है की स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस में क्या अंतर है यही हाँ तो आप सही जगह पर आये है इस पोस्ट में हम डिटेल में discuss करेंगे की स्वतंत्रता दिवस (independence day) और गणतंत्र दिवस (Republic Day) में अंतर हैं|

इसके साथ-साथ हम भी चर्चा करेंगे, की स्वतंत्रता दिवस (15 August-Independence Day) और गणतंत्र दिवस (26 January-Republic Day) को मनाने का तरीका अलग-अलग क्यू है|

अगर आपको भी स्वतंत्रता दिवस (15 August-Independence Day) और गणतंत्र दिवस (26 January-Republic Day) के बीच कोई कन्फ्यूजन है तो आज हम आपको इन दोनों की पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे |

जिससे आपका इन दोनों के बीच का कंफ्यूजन दूर हो जाए और आप भी किसी को भी इनके बीच अंतर बता सकते है|

स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस में क्या अंतर है?

15 अगस्त, 1947 को देश आजाद हुआ था, इसी वजह से इस दिन को स्वतंत्रता दिवस Independence Day के रूप में मनाया जाता है। और वहीं 26 जनवरी,1950 को भारत (India) में संविधान लागू (constitution applied) किया गया था, इस वजह से इस दिन को गणतंत्र दिवस (Republic Day) के रूप में मनाया जाता है।

26 जनवरी को स्टेट रोड पर परेड निकलती है और 15 अगस्त को लालकिले की रामपार्ट्स से प्रधानमंत्री (prime minister) country को संबोधित (addresses) करते हैं और other colorful cultural programmes को ओर्गनइजिंग किया जाता है।

15 अगस्त के दिन देश को आजादी मिली थी। इसी दिन ब्रिटिश झंडे को उतारकर भारतीय ध्वज यानि (indian flag) को ऊपर लगाया और फहराया गया था।

झंडे को नीचे से ऊपर ले जाकर फहराने की इस प्रक्रिया को ध्वजारोहण (Flag Hoisting) कहते हैं। इसलिए 15 अगस्त को लाल किले पर ध्वजारोहण (Flag Hoisting) किया जाता है।

और वहीं 26 जनवरी को उस दिन ऊपर बंधे झंडे को केवल फहराया (Flag Unfurling) जाता है। 26 जनवरी को राजपथ पर प्रोग्राम का आयोजन होता है और झांकियां यानि (floats) निकाली जाती हैं।

15 अगस्त के दिन prime minister ध्वजारोहण (Flag Hoisting) करते हैं। वहीं 26 जनवरी को प्रेसिडेंट प्रेसिडेंट झंडा फहराते हैं।

ये इस लिए होता है की प्राइम मिनिस्टर देश के पोलिटिकल चीफ होते हैं, और जबकि प्रेसिडेंट कोंस्टीटूशनल चीफ होते हैं। 26 जनवरी 1950 को कंस्टीटूशन एप्लाइड हुआ था, इसलिए गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर प्रेसिडेंट झंडा फहराते हैं।

Why is Independence day celebrated?

स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाया जाता है?

स्वतंत्रता दिवस (Independence day) भारत यानि इंडिया में (National holidays) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है। स्वतंत्रता दिवस (Independence day) 1947 में ब्रिटिश गवर्नमेंट का एन्ड और एक इंडिपेंडेंट और इंडिपेंडेंट इंडियन नेशन की स्थापना (installation) का सिंबल है।

यह  उपमहाद्वीप(subcontinent ) के दो देशों के बीच है इंडिया और पाकिस्तान में डिवीज़न की एनिवर्सरी को भी मार्केड करता है|

जो 14-15 अगस्त, 1947 को आधी रात को हुआ था। (पाकिस्तान में, स्वतंत्रता दिवस (Independence day 14 अगस्त को मनाया जाता है।

भारत के स्वतंत्रता दिवस के बारे में जानेंगे और यह भी जानेंगे कि यह दिन कैसे मनाया जाता है?

भारत में ब्रिटिश शासन 1757 में शुरू हुआ था जब प्लासी की लड़ाई में ब्रिटिश जीतने के बाद अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी ने देश पर कंट्रोल रखना स्टार्ट कर दिया।

ईस्ट इंडिया कंपनी ने 100 वर्षों तक भारत पर शासन किया, जब तक कि इसे 1857-58 में भारतीय रिबेलियन के कन्सिडरिंग  डायरेक्ट ब्रिटिश शासन (जिसे अक्सर ब्रिटिश राज के रूप में जाना जाता है) द्वारा रेप्लसेड नहीं किया गया था|

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन (Indian independence movement) फर्स्ट वर्ल्ड वॉर के दौरान स्टार्ट हुआ था|

और इसका लीडरशिप गांधी जी ने शुरू किया था, जिन्होंने ब्रिटिश गवर्नमेंट के शांतिपूर्ण (peaceful) और अहिंसक (nonviolent) अंत की वकालत (advocacy) की थी|

स्वतंत्रता दिवस को पूरे भारत में ध्वजारोहण (Flag Hoisting) सेलिब्रेशन, अभ्यासों और इंडियन नेशनल एंथम के सिंगिंग के साथ मार्केड किया जाता है। इसके अलावा, वेरियस कल्चरल प्रोग्राम्स स्टेट कैपिटल्स में अवेलेबल कराए जाते हैं।

प्राइम मिनिस्टर के द्वारा पुरानी दिल्ली में लाल किले के हिस्टोरिकल मेमोरियल पर ध्वजारोहण(Flag Hoisting) सेलिब्रेशन में भाग लेने के बाद, Armed forces और पुलिस के मेंबर्स के साथ एक परेड शुरू होती है।

पतंगबाजी भी स्वतंत्रता दिवस की परंपरा बन गई है, जिसमें डिफरेंट सिज़ेस और रंगों की पतंगें आसमान को भर देती हैं।

Why is Republic day celebrated?

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

गणतंत्र दिवस (Republic Day) तीन इंडियन नेशनल हॉलीडेज में से एक है और 26 जनवरी,1950 को भारत (India) में संविधान लागू (constitution applied) किया गया था इस वजह से इस दिन को गणतंत्र दिवस (Republic Day) के रूप में मनाया जाता है।

कंस्टीटूशन एप्लाइड होने के कई कारण थे। देश स्वतंत्र होने के बाद 26 नवंबर 1949 को constituent असेंबली ने कंस्टीटूशन अपनाया था।

वहीं, 26 जनवरी 1950 को कंस्टीटूशन को डेमोक्रेटिक गवर्नमेंट सिस्टम के साथ एप्लाइड किया गया। इस दिन भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित (declared a full Republic) किया गया।

26 जनवरी को कंस्टीटूशन एप्लाइड करने का एक main reason यह भी है कि सन् 1930 में इसी दिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) ने इंडिया की पूरी तरह से आजादी (Independence) की अनाउंसमेंट की थी।

सन् 1929 को पंडित जवाहरलाल नेहरू की प्रेसीडेंसी में इंडियन नेशनल कांग्रेस के जरिये एक सभा की प्लानिंग किया गया था।

जिसमें कॉमन एग्रीमेंट से इस बात का अनाउंसमेंट किया गया कि इंग्लिश गवर्नमेंट, भारत को 26 जनवरी 1930 तक डोमिनियन स्टेटस का दर्जा दे। इस दिन पहली बार भारत का स्वतंत्रता दिवस मनाया गया था।

15 अगस्त 1947 को आजादी मिलने तक 26 जनवरी को ही स्वतंत्रता दिवस (Republic day) मनाया जाता था। 26 जनवरी 1930 को कम्पलीट स्वराज declared करने की डेट को इम्पोर्टेंस देने के लिए 26 जनवरी 1950 को कंस्टीटूशन एप्लाइड किया गया और 26 जनवरी को Republic day declared किया गया।

Share your love
Default image
Vanshita Tiwari
Articles: 20

Leave a Reply

close