मूर्तिपूजा की सार्थकता क्यों…?

Share your love

मनोवैज्ञानीकों का कहना है कि आस्था एवं भावना को उभारने के लिए व्यक्ति को मूर्ति प्रतीक के लिए चाहिए | आराध्य की मूर्ति की पूजा करके मनुष्य उसके साठ मनोवैज्ञानिक संबंध स्थापित करता है | साधक जब तक मन को वश में कर स्थिर नहीं कर लेता, तब तक उसे पूजा का पूर्ण लाभ नहीं मिलता, इसीलिए मूर्ति की आवश्यकता पड़ती है | इसमें वह असीम सत्ता के दर्शन करना चाहता है और अपनी धार्मिक भावना को विकसित करना चाहता है | भगवान् की भव्यमूर्ति के दर्शन कर हर्द्य में उनके गुणों का स्मरण होता है और मन को एकाग्र करने में आसानी होती है | जब भगवान् की मूर्ति हर्द्य में अंकित होकर विराजमान हो जाती है तो फिर किसी मूर्ति की आवश्यकता शेष नहीं रहा जाती | इसी तरह मूर्तिपूजा साकार से निराकार की और ले जाने का एक साधन है |

जो व्यक्ति अल्पबुद्धि के कारण निराकार ईश्वर का चिंतन नहीं कर पाते है, उन साधको के लिए मूर्तिपूजा उपयोगी है | उससे उनकी मानसिक उन्नति भी होती है | प्रत्येक मूर्ति में जो-जो शक्तियां निहित होती है, उनका चिंतन करने से दिव्यगुण मनुष्य में अपने-आप विकसित होने लगते है | हमारे पूर्वज ऋषि-मुनियों ने देवी-देवताओ की मूर्तियों में ईश्वर की हर गुप्तशक्ति को प्रतीकों के माध्यम से प्रकट किया है |

उल्लेखनीय है की भगवान् की प्रतिमा में शक्ति का अनिष्ठांन किया जाता है, प्राणप्रतिष्ठा की जाती है | अथर्ववेद 2/13/4 में प्रार्थना है – ‘हे भगवान्’! आइये और इस पत्थर की बनी मूर्ति में अधिष्ठित होइए | आपका यह शरीर पत्थर की बनी मूर्ति हो जाये |

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply