धार्मिक-कर्मो में मौलि या कलावा बांधना

Share your love

शास्त्रमत है की मौलि बांधने से त्रिदेव ब्रम्हा, विष्णु ओर महेश तथा तीनों देवियों, लक्ष्मी, दुर्गा और सरस्वती की कृपा प्राप्त होती है | ब्रह्मा की अनुकंपा से कीर्ति और विष्णु की कृपा से रक्षा बल मिलता है तथा महेश दुर्गुणों का विनाश करते है | इसी प्रकार लक्ष्मीसे धन, दुर्गा से शक्ति एवं प्रशासन करने की क्षमता और सरस्वती की कृपा से बुद्धि प्राप्त होती है | शरीर विज्ञान की द्रष्टि से मौलि बाँधने से त्रिदोष वात, पित्त और कफ का शरीर पर आक्रमण नहीं होता, जिससे स्वस्थ उत्तम बना रहता है | उल्लेखनीय है किमौलि या कलावा बाँधने की परंपरा तब से चली आ रही है, जब से दान देने में अग्रणी राजा बलि की अमरता के लिए वामन भगवान् ने उनकी कलाई में यह रक्षा सूत्र बाँधा था | शास्त्रों में कहा गया है–

येन बद्धो बलीराजा दानवेन्द्रो महाबल: |

तेनत्वामनुबध्नामि रक्षां अचलं अचल: ||

मौलि का शाब्दिक अर्थ है- सबसे ऊपर, जिसका तात्पर्य सिर से भी है | शंकर भगवन के सिर पर चंद्रमा विराजमान होने के कारण उन्हें चंद्रमौलि भी कहा जाता है |

मौलि या कलावा मानवशरीर पर रक्षाकवच के रूप में भी बाँधा जाता है | वेदों में उल्लिखित है की व्रत्रासुर से युद्ध करने जाते समय इंद्राणी शची ने इंद्र की दाहिनी भुजा पर रक्षाकवच ( मौलि, कलावा ) या रक्षासूत्र बाँधा था, जिससे व्रत्रासुर को मार कर इंद्र विजयी हुए थे, तभी से रक्षासूत्र या कलावा बाधने का चलन शुरू हुआ |

Share your love
Default image
Anurag Pathak
इनका नाम अनुराग पाठक है| इन्होने बीकॉम और फाइनेंस में एमबीए किया हुआ है| वर्तमान में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं| अपने मूल विषय के अलावा धर्म, राजनीती, इतिहास और अन्य विषयों में रूचि है| इसी तरह के विषयों पर लिखने के लिए viralfactsindia.com की शुरुआत की और यह प्रयास लगातार जारी है और हिंदी पाठकों के लिए सटीक और विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे
Articles: 369

Leave a Reply